विदेश

चुनाव आयोग की ममता सरकार को चेतावनी

हाल ही में चुनाव आयोग ने लोकसभा चुनाव 2019 के चुनाव के तारीखों की घोषणा की है जिसके बाद चुनाव आयोग के डिप्टी कमिशनर सुदीप जैन चुनाव की तैयरियों का जायजा लेने पहली बार कोलकाता पहुंचे । अपने इस कलकत्ता दौरे के बाद उन्होंने कई मुद्दों पर असंतोष ज़ाहिर किया । अपने इस दौरे के दौरान उन्होंने चुनाव आयोग के अधिकारियो सहित विभिन्न राजनितिक दलों के कार्यकर्ताओ और पुलिस अधीक्षक से मुलाकात की । जैन ने नार्थ बंगाल के अधिकारियो के साथ एक वीडियो कॉन्फ्रेंस भी किया ।

उन्होंने बंगाल में चुनाव के वक़्त हुए अलग अलग दंगो की जानकारी पूछी साथ ही साथ यह भी पूछा की मालदा के मतगड़ना केंद्र को मालदा से बिना चुनाव आयोग की अनुमति लिए दूसरी जगह कैसे ले जाया गया । चुनाव आयोग के अधिकारियो के मुताबिक उन्होंने राज्य के आईपीएस अधिकारियो से यह भी पूछा की जब चुनाव आयोग ने चुनाव संबधित होर्डिंग्स और कटआउट्स को हटाने का आदेश जारी किया गया था तो इन्हे अभी तक क्यों नहीं हटाया गया । साथ ही साथ यह भी बताया गया की जैन ने राज्य के प्रशासन से यह भी पूछा की राज्य में होने वाले चुनाव को लेकर लॉ एंड आर्डर की क्या तैयारियां की गयी है जिस से की चुनाव शांतिपूर्ण कराये जा सके । उन्होंने विभिन्न जिलों के एसपी अधिकारियो चुनाव को पारदर्शी करने की अपील की है और कहा है की चुनाव आयोग के आदेश का पालन किया जाए ।आखिर में उन्होंने ने राज्य के होम सेक्रटरी अत्रि भटचार्य से मुलाकात की ।

गौरतलब है की बंगाल में जो भी चुनाव होते है उनमे हिंसा पुरे चरम पर होती है । टीएमसी के कार्यकर्ताओ द्वारा दूसरी विपक्षी दलों के कार्यकर्ताओ को मारा जाना हो या फिर टीएमसी को वोट न करने पर वोटर से मारपीट और हत्या की वारदाते हो , यह बंगाल में चुनाव के समय आम है । इसको ध्यान में रखते हुए लोकसभा चुनाव से करीब २ महीने पूर्व की बंगाल में सेना की तैनाती कर दी गयी है । बीएसफ के जवानो को बंगाल के विभिन्न चुनावी क्षेत्रो में मार्च करते हुए देखा गया ।

LEAVE A RESPONSE

Your email address will not be published. Required fields are marked *